पर्सनल लोन कैसे चुनें और कैसे लोन का सही तरीके से उपयोग करें

0

आज की इस तेज़-चाली दुनिया में, अचानक आने वाले खर्च कई बार लोगों को परेशानी मे दाल देते है, और वे उससे निपटने के लिए तैयार नहीं होते। ऐसे समय में, ‘इंस्टेंट पर्सनल लोन एप्स‘ आर्थिक सहायता के रूप में लोगों की पहली पसंद बनते जा रहे हैं। इन गिरवी-रहित लोन्स को आप अपनी मर्जी से, बिना किसी रोक-टोक के, जरूरी खर्च में इस्तेमाल कर सकते हैं। यह लोन कई लोगों के लिए एक बचाव डोरी की तरह काम कर रहे हैं, चाहे वह मेडिकल आपात स्थितियों का सामना कर रहे हों या अल्प समय की कैश की समस्याओं का समाधान कर रहे हों।

डिजिटल लेन-देन प्लेटफार्म्स ने लेन-देन व्यवसाय में महत्वपूर्ण परिवर्तन किया है, जब पूरी दुनिया Covid-19 के प्रभावों से बाहर निकलने की कोशिश कर रही है। वे उन ग्राहकों को आकर्षित किया हैं जो वास्तविक बैंकों या लेन-देन संगठनों में जाने को तैयार नहीं थे, और उन्हें संपर्क रहित और सहज उधार अनुभव प्रदान किया। हालांकि, पर्सनल लोन एप की महत्वपूर्णता और उसके प्रभाव को देखते हुए उधारकर्ता की वित्तीय स्थिति पर, इसे सतर्कता से देखना और उचित तरीके से चुनाव करने के लिए कुछ सूची का पालन करना महत्वपूर्ण है।

करने के लिए चीज़ें:

  1. दो लोनों की तुलना:

एक विशेष लोन चुनने से पहले अपने विकल्पों पर विचार करना महत्वपूर्ण है। उधारकर्ता को EMI कैलकुलेटर का उपयोग करके विभिन्न लोनों की तुलना करनी चाहिए क्योंकि पर्सनल लोन में अक्सर उच्च ब्याज दर होती है। इस उपकरण की मदद से, उधारकर्ता अपनी उधार की लागत निर्धारित कर सकते हैं और सबसे कम ब्याज दर वाले लोन को चुन सकते हैं, जिससे उन्हें दीर्घकालिक अवधि में पैसा बचता है।

2.सही अवधि का चयन:

लोन एप से उसकी सही अवधि चुनना महत्वपूर्ण है। जब मासिक EMI बढ़ती है, तो लंबी अवधि लोन की कुल लागत को घटा देती है। उल्टा, एक छोटी अवधि की वजह से EMI कम होती है, लेकिन ब्याज की खर्च ज्यादा होती है। इसके अलावा, अगर उधारकर्ता लोन को जल्दी चुकाना चाहता है, तो उन्हें यह सुनिश्चित करना चाहिए कि लेनदार पूर्वनिर्धारित शुल्क नहीं वसूलता है।

3.कुल लागत की गणना:

उधारकर्ता EMI कैलकुलेटर में लोन की राशि, चुनी गई अवधि, और ब्याज दर डालकर लोन की कुल लागत की गणना कर सकते हैं। यह प्रक्रिया उधारकर्ताओं को उनकी जरूरतों के अनुसार सबसे अच्छा लोन चुनने में सहायक है और सूचित निर्णय लेने में मदद करती है।

  1. आवश्यक दस्तावेज़ और शर्तों की जांच:

आवश्यक दस्तावेज़ों पर ध्यान से पढ़ना बहुत महत्वपूर्ण है। लोन दस्तावेज़ों की शर्तों और परिस्थितियों की ठीक से समीक्षा करना मददगार होता है ताकि छुपे हुए शुल्क या चार्जेज से बचा जा सके, जो लोन की लागत को बढ़ा सकते हैं।

न करने की चीज़ें:

  1. अधिक संख्या में लोन के लिए आवेदन करना:

एक साथ कई लोनों के लिए आवेदन करने से बचें, क्योंकि इससे क्रेडिट स्कोर कम हो जाता है और यह प्रतित होता है कि आवेदक को ज्यादा क्रेडिट की तलाश है। मजबूत क्रेडिट इतिहास को बनाए रखना महत्वपूर्ण है, क्योंकि कम क्रेडिट स्कोर से लेनदार भविष्य के लोन आवेदनों को मंजूरी देने में निराश हो सकते हैं।

  1. अनुपस्थित EMI:

पर्सनल लोन की अदायगी के मामले में समय-समय पर भुगतान करना जरूरी है। पर्सनल लोन पर अधिक ब्याज दर को ध्यान में रखते हुए, EMI छूट जाने पर जुर्माना काफी हो सकता है। देर से भुगतान करने से उधारकर्ता का क्रेडिट स्कोर भी घटता है और उनकी क्षमता भी कम हो जाती है कि वे भविष्य में पर्सनल लोन प्राप्त कर सकें।

तुरंत पर्सनल लोन एक लोकप्रिय और व्यावासिक पूंजी के स्रोत बन गए हैं, जिससे लोगों को संकट के समय में पैसे देने की क्षमता मिलती है। सूचना युक्त निर्णय लेने के लिए अलग-अलग लोन संभावनाओं के फायदे और नुकसान को तौलना, मूल्य निर्धारित करना, और व्यक्ति की वित्तीय स्थिति का मूल्यांकन करना जरूरी है। इसके अलावा, लेनदारों से सतर्क रहना और अच्छा क्रेडिट आचरण बनाए रखना उधार लेना आसान बना सकता है और एक बेहतर वित्तीय भविष्य की दिशा में दरवाजा खोल सकता है। तुरंत पर्सनल लोन की सादगी और लचीलापन को इन नियमों का पालन करके उधारकर्ताओं को उपलब्ध कराया जाता है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.